Coronavirus COVID19 Solution Found

COVID19 :


CORONA
COVID19


Ashwatthama became very angry when his father Dronacharya was killed by deception in the Mahabharata war.

 He left a very terrible weapon Narayanastra on the Pandava army.

Nobody could retaliate it, it used to fire people and immediately destroy those who have weapons in their hands and are seen trying to fight.

Lord Shri Krishna ji ordered the army to leave their weapons and keep their hands folded silently and said that do not even bring the idea of ​​war in mind, it also destroys them.

Narayan Astra gradually calmed down at the end of his time, thus protecting the Pandava army.

Do you justify this story?

Everywhere the battle does not succeed, to avoid the wrath of nature, we should also leave all the work for some time and quietly go to a place with a thoughtful mind in mind, only then we will be able to escape from the havoc

The corona will also cool down by completing its timing method

The work mentioned by Lord Shri Krishna ji, this work will not go in vain.

महाभारत युद्ध में अपने पिता द्रोणाचार्य के धोखे से मारे जाने पर अश्वत्थामा बहुत क्रोधित हो गए

 उन्होंने पांडव सेना पर एक बहुत ही भयानक अस्त्र नारायणस्त्र छोड़ दिया 

इसका कोई भी प्रतिकार नहीं कर सकता था यह जिन लोगों के हाथ में हथियार हो और लड़ने के लिए कोशिश करता दिखे उस पर अग्नि बरसाता था और तुरंत नष्ट कर देता था 

भगवान श्री कृष्ण जी ने सेना को अपने अपने अस्त्र-शस्त्र छोड़कर चुपचाप हाथ जोड़कर खड़े रहने का आदेश दिया और कहा मन में युद्ध करने का विचार भी ना  लाए यह उन्हें भी पहचान कर नष्ट कर देता है 

नारायण अस्त्र धीरे-धीरे अपना समय समाप्त होने पर शांत हो गया इस तरह पांडव सेना की रक्षा हो गई 

इस कथा प्रसंग का औचित्य समझे?

हर जगह लड़ाई सफल नहीं होती प्रकृति के प्रकोप से बचने के लिए हमें भी कुछ समय के लिए सारे काम छोड़ कर चुपचाप हाथ जोड़कर मन में सुविचार रखकर एक जगह जाना चाहिए तभी हम इस के कहर से बच पाएंगे 

कोरोना भी अपनी समय विधि पूरी करके शांत हो जाएगा 

भगवान श्री कृष्ण जी का बताया हुआ उपाय है यह वर्क व्यर्थ नहीं जाएगा

Contact for Join VIP Telegram Channel:https://t.me/UltimateForexSupport


Post a comment

0 Comments